ट्रेकिंग क्या है । और ये कितने प्रकार के होते ? Full Explain

ट्रेकिंग क्या है । दोस्तो अगर आप भी जानना चाहते हैं कि ट्रेकिंग क्या होती है ? और इस दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेकर कौन है ?

तो हम आपको इस पोस्ट के माध्यम से यही जानकारी बताने वाले हैं कि Actually में ट्रेकिंग का मतलब क्या है ( What is meaning in Track )

इसके अलावा हम जानेंगे कि ट्रेकिंग कितने प्रकार के होते हैं

एवम् भारत के Top trackers के बारे में पूरी जानकारी हिंदी में जानने वाले है

तो इसके लिए हम सब को इस पोस्ट को पूरा {End } पढ़ना है तभी हम सभी अच्छे तरीके से समझ पायेंगे

ट्रेकिंग क्या होती है ?What is Tracking

 

ट्रेकिंग क्या होती है। ट्रेकिंग एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमे लोग किसी दूसरे की जानकारी बिना उसकी इजाजत के चोरी करता है

यानि कोई अंजान व्यक्ति आपकी अनुमति के बिना आपका Personal Information को चुराने को ट्रेकिंग कहते हैं

और ऐसे गैर कानूनी काम करने वाले लोगो को Trackers कहा जाता हैं

इसलिए ट्रेकिंग को एक तरफा से देखा जाए तो ये गैर कानूनी अपराध है

पर फिर भी ट्रेकिंग का इस्तेमाल अच्छे तौर पर किया जाता हैं  और गलत तरीके से भी किया जाता है

जो ट्रेकिंग अच्छे काम के लिए किया जाता हैं इसे Ethical Track कहते हैं

और जो Track बुरे काम के लिए करते हैं इसे Non – Ethical कहते है

जैसे कि ट्रेकिंग से गुम हुई मोबाइल/Electronic Device के बारे में पता चलता है तो ये आपकी लिए अच्छा साबित हो सकता है

यानि ट्रेकिंग करने से किसी की भलाई ( Benefit ) होती हैै ये ट्रेकिंग हम सभी के लिए अच्छा होता है और इसे हम Ethical Track भी कहते हैं

परन्तु किसी की Computer/Laptop/Mobile को ट्रेक करके जरूरी Document को चुरा ले

तो ये आपकी लिए गलत साबित हो सकता है और इसे हम Non – Ethical Track भी कह सकते है

तो आप समझ गए होंगे कि ट्रेकिंग के क्या क्या अच्छाईयां है और क्या क्या नुकसान है

अब हम जानते हैं कि ट्रेकिंग कितने प्रकार के होते हैं

ट्रेकिंग के प्रकार ? Types Of Track

दोस्तो वैसे तो ट्रेकिंग के कई सारे प्रकार है जैसे White Hat Trackers, Black Hat Trackers, Grey Hat Trackers, Red Hat Trackers, Green Hat Trackers, Blue Hat Trackers, और Script Kiddies।

लेकिन Track के मुख्य रूप से 3 तरीके है

1. White Hat या Ethical Track

2. Black Hat या illegal Track

3. Grey Hat या (Ethical + illigal Track )

इन तरीको में हम Explain में जानते हैं –

White Hat Track

किसी Electric Device (Computer, Mobile) या Network को कानूनी (Legal) तरीके से सुरक्षा में होने के बावजूद ट्रेक करने के बारे में जानना इसे White Hat Track या Ethical Track कहते हैं

Black Hat Track

इस तरह के ट्रेकिंग कानूनी अपराध होते हैं यानि Computer या Network को ट्रेक करके जानकारी चोरी करके ब्लैकमेल करने के लिए काम आता है

इसमें ट्रेकer किसी का Computer या Mobike को ट्रेक करके लोगो से पैसों का Demand करते हैं इसे ही Black Hat Track के नाम से जाना जाता है

Grey Hat Track

इस प्रकार की Track, Ethical और illigal Track दोनो के लिए किया जाता है

यानि इस प्रकार के ट्रेकर White Hat Trackers और Black Hat Trackers के बीच में होते हैं

और जब Grey Hat Trackers को Computer, System, Software या अन्य Networking System में जितने भी कमियां दिखाई देती है

तो उस कमियां को दूर करने के लिए एक Report type का तैयार किया जाता हैं

फिर उनके असली मालिक के सामने तैयार की गई Report को देते हैं

क्योंकि Grey Hat Trackers इन कमियों को सुधार करने के लिए उनके असली मालिक से कुछ पैसे लेते हैं

तो इन 3 तरीको के हिसाब से ही ट्रेकर्स होते हैं जो कि अपने काम को करने में माहिर होते हैं

Track के तरीका कौन कौन से हैं ?

ट्रेकिंग क्या होती है ? – ट्रेकर्स ट्रेक करने के लिए कई सारे Tools का इस्तेमाल करते हैं

जिसमे Track करने के सबसे ज्यादा Use की जानें वाली तरीके बताने वाले हैं जिसकी Help से लोग ट्रेक करते हैं

1. Fishing Attack

दोस्तों Fishing Attack का मतलब होता है – मछलियों का जाल ।

जैसे मछली पकड़ने के लिए Fishing attack का Use करते हैं उसी प्रकार से fishing Attack एक तरह का जाल होता है

जिसमे ट्रेकर अपनी एक Domein लेकर Fake website बनाते हैं जैसे ही कोई लोग इस Fake website पे क्लिक करते हैं

तो उन लोगो की सारी Details Trackers को मिल जाते हैं

जिससे Trackers आपकी कोई भी Device को आसानी से ट्रेक कर सकते है

2. Z-Shadow

Z – Shadow भी बिल्कुल Fishing Attack के जैसा है

बस इसमें इतना ही फर्क है की इसमें आपको दुसरो की Famous Domein के जैसे Same Domein के नाम मिलते हैं

जैसे कि किसी Website के domein के नाम Facebook.com हैं

तो ट्रेकर्स इससे जूडी एक Fake Website निकालते है जिनका नाम वे Fasebook.com रखेगा

जिससे अधिकतर लोग Same Website दिखने पर इसपे Click करेंगे

जैसे ही इसपे Click करके लोग अपना Facebook का Username और Password डालेंगे

तो तुरंत ही आपकी Details Trackers को मिल जायेंगे

और इस तरह से ट्रेकर्स आसानी से आपका Facebook Account ट्रेक कर लेगा

तो इस प्रकार से Z – Shadow Website बनाकर Track का काम आता है

3. Password Track

जब कोइ ट्रेकर किसी की Computer, Laptop या Software से जु़डी Password को ट्रेक या Crack कर लेता है तो इसे Password Track कहते हैं

इन तरीको में लोगो को हमेशा अपनी banking का Password/ Social Media App (Instagram, Facebook, Twitter ) का खतरा रहता है

कोई भी Trackers दुसरो का Password को ट्रेक करके उनका गलत इस्तेमाल करते हैं और नही तो दुसरो लोगो को बेच देते हैं

और इस प्रकार से ट्रेकर्स password ट्रेक कर लेता है

4. Computer/Mobile Track

जब कोई ट्रेकer किसी की Computer/Mobile की सारी information को ट्रेक कर लेता है

तो इसे Computer या Mobile Track कहते हैं

इसमें Trackers लोग Computer की सारी Software या Virus या Mobile की Main Device को जब Trackers अपने Control में कर लेता है

तो इसे ही कंप्यूटर एवम् मोबाइल से सम्बन्धित ट्रेकर कहते है

5. Network Track

ट्रेकर्स जब किसी नेटवर्क से related जैसे Drone, Electric Camera, network से जुड़ी सारी जानकारी को अपने System की through Control कर लेना ।

इससे लोगो को Network पर अपनी Control खो देते हैं जिससे कि उनका System Crash हो जाता हैं

और जानकारी के लिए बता दें कि Network Track के जरिए आप किसी का भी Computer/Pc/Mobile को आसानी से ट्रेक कर सकते है

क्योकि ट्रेकर्स के पास ऐसे कई tools होते हैं जिनसे Network Track करने में मदद होती है

तो इस तरह से भी ट्रेकर्स Network Track की Help से ट्रेक करते है

इस दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेकर कौन है ?

इस दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेकर Gary McKinnon ( गरी मैक्किनों) को माना जाता हैं क्योंकि इन्हे Track से जु़डी सभी खबरे पता था 

और उन्होंने कई बड़े बड़े Website को चुटकियों में ट्रेक कर लेते थे। इन्होंने Landon में NASA के Website को अपने दोस्त के घर पर ही ट्रेक कर लिया था 

इन्होंने केवल Website को ही ट्रेक नही किया है बल्कि बड़े बड़े Apps में बहुत ही Security की हुई जानकारी को तुरन्त ही ट्रेक कर लेते थे 

इसके अलावा एक बार उन्होंने  US Military’s Washington Network में कम से कम 2000 Computer लगे हुए थे उसे उसने 24 घंटे के लिए बंद कर दिया था।

( कहा जाता हैं कि US Military’s Washington Network को ट्रेक करना नामुमकिन था फिर भी उन्होंने ट्रेक कर लिया था) 

इसलिए Gary McKinnon को इस दुनिया का सबसे बड़ा ट्रेकर कहा जाता हैं। 

तो दोस्तो आशा करता हूं आपको इस पोस्ट में बताई गई जानकारी – ट्रेकिंग क्या होती है ? – अच्छी लगी होगी

और यदि इससे संबंधित कोई भी Problem हो हमे Comment में बताना ना हो।

Ashish

Hello Friends, मेरा नाम Ashish है मैं इस Blog पर लोगो को कुछ नया सिखाना चाहता हु | मैं यहाँ पर कुछ ऐसी जानकारी शेयर करना चाहता हु जो लोगो के काम आये, आपके सभी प्रॉब्लम आसानी से Solve हो जाये

Leave a Reply

Your email address will not be published.